Type Here to Get Search Results !

खाटूश्याम के मेले में भगदड़ होने से 3 महिलाओं की हुई मौत

 खबर राजस्थान के सीकर से है जहां आज सुबह खाटूश्याम मंदिर में भगदड़ मत ने से एक बड़ा हादसा हो गया जिसमें 3 महिलाओं की मौके पर ही मौत हो गई और 4 लोग घायल भी हो गए।


दरअसल हादसा सोमवार को सुबह 5:00 बजे का बताया जा रहा है जोकि खाटूश्याम मंदिर में एकादशी के मौके पर दर्शन के लिए बहुत सारे श्रद्धालुओं की भीड़ आई हुई थी। भीड़ ज्यादा होने के कारण कल रात से ही श्रद्धालु लाइन में लगने लगे थे। और जैसे ही सुबह मंदिर परिसर के गेट को खोला गया तो वहां भगदड़ मच गई।


हादसे में मौत होने वाली महिला शांति देवी की बेटी पूनम घटना कर्म के बाद से ही सदमे में है। बड़ी मुश्किल से घटना के बारे में पूनम सिर्फ इतना ही बता सकी के जैसे ही सुबह मंदिर का गेट खुला तो अचानक से हमारे ऊपर करीब 15-20 महिला आकर गिर गई। और नीचे दबने वाली लोगों में छोटे बच्चे भी थे और इसके बाद लोग हमारे ऊपर से होते हुए जाने लगे। पूनम ने यह भी बताया कि वह हिसार से अपनी मां शांति देवी और अपने मामा जी के साथ खाटू श्याम जी दर्शन के लिए आई हुई थी।


घटनाक्रम के बाद राज्य सरकार ने मृतकों के परिजनों को 5-5 लाख रुपए मुआवजा देने की घोषणा की है। और साथ में ही मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने घटना के जांच के आदेश भी दिए हैं। खाटू श्याम मंदिर परिषद के संभागायुक्त विकास सीताराम भाले पूरे मामले की जांच करेंगे। अभी तक जांच चालू भी नहीं हुई उससे पहले ही जिला प्रशासन ने हादसे को भगदड़ मानने से इनकार कर दिया। और वही सीकर जिले के कलेक्टर अविचल चतुर्वेदी ने कहा है कि प्रवेश दर्शन मार का गेट खोलते समय भीड़ के दबाव के चलते यहां ये हादसा हुआ है।


इस हादसे में महिला शांति देवी, कृपा देवी और माया देवी की मौके पर ही मौत हो गई। शांति देवी हिसार से दर्शन के लिए आई हुई थी और कृपा देवी जयपुर के मानसरोवर की रहने वाली थी, वही माया देवी यूपी के हाथरस से थी। शव को खाटू श्याम जी हॉस्पिटल की मोर्चरी में रखा गया है जहां उनका पोस्टमार्टम भी किया जाएगा।


बाद में पुलिस मौके पर पहुंचकर हालात को काबू में किया और मंदिर में दर्शन दोबारा शुरू किया। पुलिस के अनुसार मंदिर के बाहर सुबह बारी भीड़ होने के कारण। जैसे ही मंदिर का गेट खोला तो लोग एक दूसरे को धक्का मार कर आगे जाने लगे और उसी समय कुछ लोग धक्का-मुक्की में एक महिला विवश होकर वही गिर पड़ी। और उसके बाद पीछे से आते हुए लोग लियोन पर गिरने लगे। पुलिस को जैसे ही भगदड़ का सूचना मिली पुलिस ने अपनी एक टीम मंदिर परिसर पहुंचाई और हालात को संभाला। और अब मंदिर में दर्शन दोबारा शुरू कर दिया गया है।


प्रधानमंत्री और और मुख्यमंत्री ने भी अपना दुख जताया 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्वीट करके कहां है कि खाटू श्याम जी मंदिर में भगदड़ में श्रद्धालुओं की मौत से दुखी हूं।

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने जिससे पर ट्वीट करके अपना दुख जाहिर किया है। साथ ही उन्होंने कहा है कि हादसे में तीनों मृतको महिलाओं के परिजनों के साथ उनकी संवेदनाएं हैं। गहलोत ने घायलों के जल्द से जल्द स्वस्थ होने की कामना की है। भगदड़ में मनोहर (40), शिवचरण(50), करनाल की इंदिरा देवी(55), अलवर की अनोजी(40) घायल हुए हैं। मनोहर की हालत गंभीर बताई जा रही है उन्हें जयपुर के लिए रेफर कर दिया गया है।


एकादशी पर 500000 से ज्यादा अधिक लोग करते हैं दर्शन खाटू श्याम जी मासिक मेले में लाखों की संख्या में श्रद्धालुओं आते हैं। गेट बंद होने के कारण श्रद्धालुओं के बहुत बड़ी और कई किलोमीटर लंबी लाइन लग जाती है।

हर महीने दो बार एकादशी तिथि पर खाटू श्याम जी के दर्शन के लिए लाखों की भीड़ उमड़ती है। ऐसा माना जाता है जी हर ग्यारस पर यहां राजस्थान समेत अन्य कई प्रदेशों से पांच से छह लाख से ज्यादा लोग दर्शन के लिए आते हैं। ग्यारस  पर खाटू श्याम जी के दर्शन के लिए आने का एक विशेष मैं तो माना जाता है।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.